huawei

Huawei Android Cicense रद्द: चीनी स्मार्टफोन निर्माता Huawei Google ने अपना व्यवसाय निलंबित कर दिया और कंपनी के लिए Android लाइसेंस रद्द कर दिया। Google अब Hugavo को अपने हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर और तकनीकी सेवाओं की पेशकश नहीं करेगा। यानी, ह्वावे को अभी से एंड्रॉइड अपडेट नहीं मिलेगा, और अब Google उन्हीं सेवाओं का उपयोग करने में सक्षम होगा जो खुले स्रोत पर उपलब्ध हैं। समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने मामले के संबंध में सूत्रों के हवाले से बताया है कि अमेरिकी सरकार ने दुनिया भर में चीनी कंपनी हुआवेई को ब्लैकलिस्ट करने की मांग की है। Google के एक प्रवक्ता ने कहा कि उनकी कंपनी इस आदेश का अनुपालन कर रही है, बिना इसका विवरण दिए और इसकी समीक्षा भी कर रही है।

टेक्नोलॉजी के लेटेस्ट न्यूज जानने के लिए यह पेज लाइक और शेयर करे 
For the latest 
tech news and tips and tricks, follow TechGuruWeb on TwitterFacebookInstagram and subscribe to our YouTube channel.

ऐसा माना जाता है कि Google के इस कदम के बाद, कंपनी का स्मार्टफोन कारोबार चीन के बाहर प्रभावित हो सकता है। इस कदम के बाद, Google Android ऑपरेटिंग सिस्टम अपडेट तक पहुंच खो देगा। इसके साथ, भविष्य में एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म पर चलने वाले Huawei के स्मार्टफोन में Google Play Store और Gmail और YouTube जैसे लोकप्रिय ऐप भी नहीं होंगे। रॉयटर्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि हुवावे केवल अपने स्मार्टफोन पर एंड्रॉइड के सार्वजनिक संस्करण का उपयोग करने में सक्षम होगा और Google की सेवा और एप्लिकेशन तक नहीं पहुंच पाएगा।

बता दें कि ट्रंप प्रशासन ने गुरुवार को हुवावे टेक्नोलॉजी के साथ कारोबार को ब्लैकलिस्ट कर दिया है। ये प्रतिबंध तुरंत लागू हो गए हैं। इस तरह का कदम उठाने के लिए अमेरिकी प्रौद्योगिकी कंपनी के साथ काम करना बहुत मुश्किल हो गया है। गुरुवार को अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने कहा कि वे मौजूदा नेटवर्क संचालन और उपकरणों पर प्रतिबंध हटाने पर विचार कर रहे हैं। हालांकि, रविवार को यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि इन प्रतिबंधों के कारण हवाला के मोबाइल फोन तक पहुंच प्रभावित होगी।

अमेरिकी सरकार ने जिस हद तक हाइवा को ब्लैक लिस्ट किया है, उसका असर उसकी सीमा पर नहीं पड़ेगा। लेकिन चिपसेट बनाने वाले विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अमेरिका की मदद के बिना, चीनी कंपनी ने काम जारी रखने की Huawei की क्षमता पर सवाल उठाया है। हौवा की समस्याएं यहीं खत्म नहीं हुईं। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, इंटेल, क्वालकॉम जैसी कंपनियों ने अपने कारोबार को कंपनी से निलंबित कर दिया है।

आपको बता दें कि वर्तमान में हुवावे के स्मार्टफोन का उपयोग करने वाले उपयोगकर्ता सभी Google सेवाओं का उपयोग कर सकेंगे लेकिन उन्हें Google से अपडेट नहीं मिलेगा। भविष्य में, आने वाला स्मार्टफोन Google की एंड्रोइट ओपन सोर्स प्रोजेक्ट (AOSP) में भी उपलब्ध सेवाएं प्राप्त कर सकेगा। Goole Play Store, Gmail, Google Chrome और YouTube ऐप सेवाएं उपलब्ध नहीं होंगी क्योंकि Google उन्हें खुले स्रोत में उपलब्ध नहीं कराता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here