mark_zuckerberg

लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Facebook के संस्थापक Mark Zuckerberg ने प्राइवेसी पर एक पोस्ट लिखा है। इस पोस्ट में Facebook के भविष्य के बारे में लिखा गया है। इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप Whatsapp को दुनिया का सबसे सिक्योर इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप्स में से एक माना जाता है। आपको बता दें कि वर्ष 2014 में Facebook ने Whatsapp को एक्वायर (खरीदा) कर लिया।

टेक्नोलॉजी के लेटेस्ट न्यूज जानने के लिए यह पेज लाइक करे :- https://fb.com/TechGuruWeb

Mark Zuckerberg ने अपने प्राइवेसी पर लिखे पोस्ट का टाइटल ‘A privacy focused vision for social networking’ रखा है। मालूम हो कि पिछले साल कैम्ब्रिज एनालिटिका विवाद के बाद से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Facebook पर कई सवाल उठने लगे थे। जिसके बाद Mark Zuckerberg की कई बार आलोचना भी हुई थी। Mark Zuckerberg के पोस्ट के मुताबिक, आने वाले समय में भी वॉट्सऐप और फेसबुक मैसेंजर से एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन नहीं हटाया जाएगा। वहीं, Mark Zuckerberg ने प्राइवेट कम्युनिकेशन के बारे में लिखते हुए कहा, ‘सभी प्राइवेट कम्युनिकेशन्स के लिए एंड टु एंड एन्क्रिप्शन लागू करना अच्छी चीज है।

Mark Zuckerberg के मुताबिक, भारत में WhatsApp प्राइवेसी और एन्क्रिप्शन को लेकर कुछ समय से लगातार चर्चा में बना हुआ है। फेक न्यूज और अफवाहें बड़ी समस्या बन कर उभरे हैं, इससे निपटने के लिए सरकार चाहती है कि Whatsapp फेक न्यूज या अफवाह फैलाने वालों का ऑरिजिन पता करे, लेकिन Whatsapp में एंड टु एंड एन्क्रिप्शन की वजह से यह कर पाना लगभग असंभव है।

कुछ दिन पहले ही Whatsapp के इंजीनियर की एक टीम भारत आई थी और मीडिया के सवालों का जबाब देते हुए कहा था कि सरकार जिस टूल के बारे में बात कर रही है, अगर वह लाया गया तो Whatsapp जिसके लिए जाना जाता है वह नहीं रह जाएगा। उन्होंने कहा कि, एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन होने की वजह से ही मैसेज भेजने वाले और मैसेज प्राप्त करने वाले के अलावा कोई तीसरा इसे इंटरसेप्ट नहीं कर सकता है। यहां तक कि कोई जांच एजेंसी भी इसे डिक्रिप्ट नहीं कर सकती है।

अपने पोस्ट के जरिए जकरबर्ग ने साफ किया है कि Whatsapp में लोगों को ट्रेस करने के लिए कोई टूल नहीं आएगा। Mark Zuckerberg ने कहा, ‘कम्युनिकेशन का फ्यूचर तेजी से प्राइवेट हो रहा है, एनक्रिप्टेड सर्विस की तरफ शिफ्ट हो रहा है जहां लोगों को विश्वास हो सके कि जो भी बात वह एक-दूसरे से करते हैं वो सिक्योर है। हम इसी तरह का भविष्य Facebook के लिए भी चाहते हैं और इसे लाने में मदद करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here